Monday, March 31, 2008

एक सुन्दरी मेरे जीवन मे (भाग-तीन)

एक सुन्दरी मेरे जीवन मे (भाग-तीन)

- पंकज अवधिया

उपचार के बाद जब सुन्दरी को वापस छोडने की बारी आयी तो हम असमंजस मे पड गये क्योकि हमे नही मालूम था कि वह किन परिस्थितियो मे छत पर गिरी थी। आमतौर पर ये पक्षी झुण्ड मे रहते है और एक बार बिछड जाने के बाद दूसरे झुंड इन्हे नही स्वीकारते है। अंत मे यह निश्चय किया गया कि सुन्दरी को अपने पास ही रखा जाये। हमारे पास एक बडा सा पिंजरा था जिसे पिताजी ने बचपन मे बनवाया था। उस समय हम लोगो ने चुनमुन चिडिया पाली थी। ये चिडिया रात को एक कोने मे सिमट कर बैठ जाती है। एक दिन पिंजरा बाहर छूट गया और बिल्ली ने सब को खा लिया। उसके बाद कभी भी चिडिया न पालने का मन बना लिया था हम लोगो ने। पर सुन्दरी के आगमन ने मन मे उत्साह भर दिया।

यह बडा पिंजरा सुन्दरी को भी खूब भाया। पर इसे सम्भालना मुश्किल था। रोज इसे साफ करना बला लगा। फिर इतने बडे पिंजरे मे सुन्दरी को ठीक से पास से देख भी नही पाते थे। इसलिये इसे थोडे छोटे पिंजरे मे रखने की कोशिश की। पर जब भी ऐसा किया गया सुन्दरी ने विद्रोह कर दिया। सब कुछ छोड के वह पिंजरे को काटने मे जुटी रहती। पास बुलाने पर गुर्राती। जब वापस बडे पिंजरे मे ले जाते तो सामान्य हो जाती। आखिर उसकी ही जीत हुयी।

आपने तो देखा ही होगा तोते को लोग कैसे छोटे से पिंजरे मे रखते है। इतने छोटे कि वह ठीक से घूम भी न सके। फिर उसके पंख भी कतर दिये जाते है। हमने यह निश्चित किया कि कभी पंख नही काटेंगे। आज तक उस निश्चय पर कायम है। कभी-कभी लगता है कि पंख काटने पर उसे हम डायनिंग टेबल पर घुमा सकेंगे। उससे और घनिष्ठ हो सकेंगे पर दूसरे ही पल यह सोच कर दुखी हो जाते है कि कही पंख कतरने से यह नन्हा सा पंछी नाराज न हो जाये। पिंजरे मे सुन्दरी मजे से उडती है। जब वह उडती है तो हम वाह,वाह, हेलीकाप्टर कहते है। शांत बैठी सुन्दरी अब तो हेलीकाप्टर शब्द मुँह से निकलते ही एक जगह पर उडने लगती है। काफी प्रफुल्लित होकर। पता नही वह इस शब्द का क्या मायने निकालती है। भविष्य़ मे उससे संवाद कायम हुआ तो उसे बतायेंगे कि हेलीकाप्टर क्या है? दिखायेंगे भी।

3 comments:

Ila's world, in and out said...

आपकी सुन्दरी ने मुझे अपने दिवंगत मिट्ठू की याद दिला दी.यदि आप मुझे मौका दें तो मै भी अपने घर के पेट्स के संस्मरण यहां सब के साथ बांतना चाहती हूं.

mamta said...

क्या खूब नाम वाह-वाह हेलिकॉप्टर।

पंकज अवधिया Pankaj Oudhia said...

इला जी आपका स्वागत है। अभी मैने आपका नाम बतौर लेखक इस कम्युनिटी ब्लाग पर देखा। आपके लेखो की प्रतीक्षा है।


ममता जी धन्यवाद आपकी टिप्पणी के लिये।