Wednesday, June 11, 2008

यूरो कप फ़ुटबाल और कैरी

अब क्रिकेट ख़त्म हो गया है और यूरो कप फ़ुटबाल शुरू हो गया है।क्रिकेट का तो नही पर हाँ फ़ुटबाल का कुछ नशा हमारे कैरी पर भी नजर आ रहा है।रोज शाम को कैरी के साथ १०-१५ मिनट फ़ुटबाल खेलते है ।कैरी कभी पैर से तो कभी मुंह से फ़ुटबाल खेलता है। वैसे एक बात बता दे कैरी बहुत ही अच्छा डिफेन्स मे खेलता है । :)

जब भी हम लोग उसके साथ खेलते है तो जोर से बॉल को उछालते है(किक करते है) और कैरी उसे पकड़ने के लिए दौड़ता है और अगर हम लोग जरा सा चूक जाते है बॉल पकड़ने मे और बॉल कैरी को मिल जाती है. और जब वो बॉल ले लेता है तो छोड़ता नही है। कभी बॉल को मुंह मे लेकर इधर भागता है तो कभी उधर भागता है।

और तब उसका ध्यान हटा कर बॉल लेनी पड़ती है और अगर किक करने मे जरा देर की नही की कैरी बिल्कुल पास आकर बॉल पर कुछ ऐसे पैर रख देता है । :)

Tuesday, June 3, 2008

बारिश और कैरी


मई मे गोवा मे बहुत गर्मी पड़ने लगती है . एक तो उमस और उस पर से खूब कड़ी धूप पर रविवार शाम से गोवा मे बारिशशुरू हो गयी है और इस बारिश का मजा हम लोगों के साथ-साथ कैरी महाशय ने भी उठाया आख़िर कैरी को भी तो गर्मी से राहत मिली है ना

बारिश शुरू होने के पहले जब बादल गरजते है और बिजली चमकती है तो कैरी डर जाता है और हम लोगों के पास आकर बैठ जाता हैऔर जब बारिश शुरू हो जाती है तो कुछ देर तो उसे कुछ समझ नही आता हैपर थोडी देर बाद वो भी बारिश का आनंद लेने लगता हैऔर कभी-कभी बीच-बीच मे भौंकता भी जाता हैकिसे भौंकता है पता नहीशायद बारिश से बहस करता होगा। :)

Tuesday, May 20, 2008

कैरी डॉक्टर और ब्लैकमेलर

अक्सर ऐसे जीव-जंतु जैसे बिल्ली,doggi जिनका खाना पेड़-पौधे नही होता है पर फ़िर भी कभी-कभी इनको पेड़-पौधे खाते हुए देखा जाता है दिल्ली मे हमारे पास जो बिल्ली थी वो भी अक्सर गार्डन मे जा कर बड़े चाव से घास-फूस खाती थी

वो
कहते है ना की जीव-जंतु अपनी छोटी-मोटी बीमारी का इलाज ख़ुद ही कर लेते है और वो भी बिल्कुल प्राकृतिक तरीके से (नेचुरोपैथी )

और अब कैरी को भी हम देखते है की जब कभी कैरी की तबियत ख़राब होती है तो वो बाहर जाकर ढूंढ -ढूंढ कर कुछ ख़ास तरह की घास-फूस और पत्तियां खाता हैपर अगर हम लोग उसे वही पत्ती तोड़ कर खिलाने लगते है तो वो नही खाता है शायद सोचता हो की कहीं कुछ गड़बड़ पत्ती ना खिला दे :)


पर ऐसा नही है की हमेशा सिर्फ़ अपनी बीमारी के इलाज के लिए ही कैरी पत्ती खाता है अब जैसे इस फोटो मे हम लोग बैडमिन्टन खेल रहे थे तो कैरी को बाँध दिया था क्यूंकि वरना कैरी शैटल कॉक लेकर ही भाग जाता थातो गुस्से मे कैरी ने आव-देखा ना ताव बस दीवार मे उग आई इन पत्तियों को ही खाने लगा और हम लोगों को उसे खोलना पड़ाकैरी को भी ब्लैकमेल करना आता है। :)

Wednesday, May 14, 2008

कैरी के खर्राटे


क्या आप जानते है की doggi या अन्य जानवर खर्राटे लेते है. भाई हम तो यही जानते-समझते थे की सिर्फ़ इंसान ही खर्राटे मारते है पर कैरी के खर्राटे सुनकर हमे अपनी ये धारणा बदलनी पड़ी है ।कैरी जब सोते है तो बड़ी ही गहरी नींद मे सोते है और ऐसी ही गहरी नींद मे वो खर्राटे भी लेता है और आवाजें भी निकलता है। शुरू मे तो हम लोग समझ ही नही पाये की कैरी राम भी खर्राटे ले सकते है। boxer के लिए कहा जाता है की ये पीठ के बल भी सोते हैजैसा की इस फोटो मे दिख रहा है

काफ़ी शुरू की बात है जब कैरी कुछ महीने का ही था । एक दिन हम सभी ड्राइंग रूम मे बैठे थे और टी.वी.पर न्यूज़ देख रहे थे कैरी भी वहीं carpet पर सो रहा था।।हम सभी टी.वी.पर आ रही न्यूज़ मे लगे थे की बड़े-जोर-जोर से खर्राटे जैसी आवाज आने लगी और जब हम लोगों ने आवाज की और ध्यान किया तो पता चला की ये खर्राटे तो कैरी राम ले रहे थे। यकीन जानिए बाकायदा कैरी की नाक बज रही थी।

कैरी ना केवल खर्राटे लेता है बल्कि सोते हुए सपने मे वो अजीब-अजीब सी आवाजें भी निकलता है।कभी-कूं-कूं तो कभी बड़ी ही अजीब तरह से कुछ जोर-जोर से आवाज निकलता है। कभी-कभी तो हम लोगों को उसे आवाज दे कर उठाना पड़ता है। ऐसा लगता है की उसके दिमाग मे भी कुछ ना कुछ चलता रहता होगा जो उसे सपने मे दिखाई देता है। :)

Friday, May 9, 2008

बुद्धू


आप इस पोस्ट का शीर्षक देख कर अवश्य ही चौंक गये होंगे.बुद्धू हमारे कछुए का नाम है.अब आप कहेंगे ये क्या नाम हुआ भला?इसके मिलने की कहानी भी दिलचस्प है. ५ साल पहले, हम लोग कार के द्वारा उदयपुर से जयपुर जा रहे थे.सितम्बर का महीना था, थोडी थोडी बारिश से मौसम खुशगवार हो गया था. सडक के दोनों ओर हरियाली देख कर चित्त प्रसन्न हो रहा था, शुभा मुदगल का टेप चल रहा था. अचानक पतिदेव ने ब्रेक लगाया और गाडी रोक दी,बोले"देखो सडक के बीचोंबीच कितना सुन्दर पत्थर पडा हुआ है".हम सभी गाडी से उतर कर पास गये तो देखा एक कछुआ घायलवस्था में पडा था.उसकी एक टांग से खून बह रहा था और वो निस्तेज पडा था.हमें पास आते देख उसने अपना सिर और बाकी के तीन पैर अपने खोल में समेट लिये किन्तु घायल पैर बाहर ही रहा.अब हम असमंजस की स्थिति में थे.सारा परिवार पशु प्रेमी है, अत: उसे वहां बेसहारा छोडने का तो सवाल ही नहीं उठता था.शाम ढलने में कुछ ही देर थी, मैने तुरन्त अपना फ़र्स्ट-एड किट निकाला और कछुए की घायल टांग की मरहम -पट्टी कर डाली.अब सवाल उठा इसे अकेला कैसे छोडा जाये, पुपुल की तो आंखों में आंसू छलक आये. मैने पतिदेव की ओर देखा तो उन्होंने मौन स्वीकृति दे दी. हमने उसे उठाया ओर गाडी में सीट के नीचे अखबार बिछा कर विराजमान कर दिया.रास्ते में ही नाम तय हो गया, कि क्यूंकि ये हमें बुधवार को मिला है, इसे हम बुद्धू कह कर बुलायेंगे. इस प्रकार बुद्धू हमारे घर के सदस्य के रूप में शामिल हो गये.दिल्ली पंहुचते ही सबसे पहले वैली (हमारी लैब्रैडोर) ने उसका सूघ-सूंघ कर निरीक्षण किया और बडप्पन दिखाते हुए स्वीकार कर लिया.घर आकर तय किया गया कि जैसे ही ये ठीक हो जाएगा, इसे कहीं जंगल में छोड आयेंगे. बुद्धू ५-७ दिन में ठीक भी हो गया, किन्तु आज तक हम उससे अलग होने की कल्पना से भी विचलित हो जाते हैं.
अब बुद्धू की दिनचर्या सेट करने का भार मुझ पर आ गया. खाने को उसे हम लौकी,कद्दू, खीरा आदि देने लगे.समस्या थी उसके शौच और मूत्र के समय संचालन की.तो मैने इसका हल निकाला.रोज़ाना सुबह ९ बजे मैं उसे पानी के टब में छोडने लगी. २०-२५ मिनट में वो सू-सू और पौटी से फ़्री होने लगा. एक महीने में ही वो इतना समझदार हो गया कि टब से निकलते ही वो सीधा रसोई की ओर बढने लगा क्योंकि वहां उसे भोजन मिलने वाला था.पेट भर खाने के बाद वो रसोई से बाहर आकर पूरे घर का भ्रमण करने लगा.अब उसका रुटीन इतना सेट हो गया है कि अगर हम भूल जायें तो भी वो ९ बजे बाथरूम के पास आकर खडा हो जाता है.दिन के चार बजे उसे जैसे ही रसोई में किसी के आने की आहट होती है, वो रसोई में चला आता है और मेरे या महरी के अंगूठे पर अपना सर मार कर खाना मांगता है.अपना एक हाथ उठा कर हवा में हिला कर , अपना सिर और गर्दन बाहर निकाल कर कलाबाज़ियां दिखाता है.
दिन में वो वैली के पेट से चिपक कर घंटों गु्ज़ार देता है.उन दोनों में इतनी गहरी दोस्ती हो गई है कि वैली को उसकी छेड-छाड से कोई गुरेज़ नही है.वो कभी वैली की पूंछ पर चढता है, कभी उसकी नाक से अपनी नाक अडा देता है.दोनों में एक अनकही अन्डरस्टैन्डिंग हो गई है. उसे ना वैली का खौफ़ है ना हमारा.हां ,आगन्तुकों की आहट मात्र से खोल में सिकुड जाता है.शाम होते ही घर का कोई भी कोना पकड कर वहां छिप जाता है.सर्दियों के मौसम में ना वो खोल से बाहर आता है, ना ही कुछ खाता है.कभी कभी धूप में मैं उसे बालकनी में रख देती हूं तो कुछ एक पत्ते, या खीरे का छोटा सा टुकडा खा लेता है.सारी सर्दियां मैं उसे एक ऊनी टोपी में लपेट कर एक केन की टोकरी में सहेज कर रखती हूं. वसन्त के आगमन के साथ ही उसका भ्रमण शुरु हो जाता है.बरसातों में उसकी गति और चपलता, साथ ही भूख भी बढ जाती है.दिन में ५-६ बार रसोई में आकर खाने की मांग करता है.खास तौर से बरसातों में वो पूरे दिन मेरे पीछे पीछे चक्कर काटता है. ऊपर वाले चित्र में वो अपना वज़न ले रहा है, आखिर फ़िट्नेस का ज़माना है.बाबा रामदेव के बताये रास्ते पर चल कर पूर्ण शाकाहारी भोजन करता है और बहुत ही धीमे धीमे सांस लेता है, यही है उसकी सेहत और लम्बी उम्र का राज़.कैसा लगा आपको हमारा बुद्धू?

Tuesday, April 29, 2008

जब कैरी पहली बार beach पर गया


कैरी को आए कुछ ही दिन हुए थे पर जब से कैरी आया था हम लोगों का घूमना-फिरना बंद हो गया था क्यूंकि कैरी को हर जगह लेकर जा नही सकते थे और घर मे उसे अकेले छोड़ नही सकते थे। एक बार कैरी अकेले घर मे छोड़ कर हम लोग डिनर करने बाहर चले गए थे तो कैरी कमरे की खिड़की से निकल कर बाहर टैरस पर चला गया था और खूब जोर-जोर से भौंक रहा था।और जैसे ही हम लोग गाड़ी से आए की एक पड़ोसी ने हम लोगों को बताया की आपका doggi बहुत देर से भौक रहा था उसे अकेले ऐसे छोड़ कर नही जाना चाहिए। बाद मे पता चला की उन पड़ोसी के पास भी doggi है।

खैर तो ऐसे ही एक सन्डे को हम लोगों ने calangute beach जाने का कार्यक्रम बनाया। और ये तय किया की अबकी कैरी को भी लेकर जायेंगे जिससे उसकी घूमने और गाड़ी मे बैठने की भी आदत पड़ जाए। पर पहली बार बाहर लेकर जाने मे हम लोगों को भी डर लग रहा था कि पता नही वो कैसे बिहेव करेगा। जैसे ही कार चली की कैरी महाशय थोडी देर तो चुप रहे और उसके बाद भौंकना शुरू कर दिया।कैरी थोडी देर चुप रहता और फ़िर कूं-कूं करने लगता। खैर २० मिनट मे beach पर पहुंचे तो वहां लोगों को देख कर कैरी राम घबडा ही गए। और जब कैरी को पानी के पास ले गए तो वो पीछे की तरफ़ भागने लगा। खैर हम सब ने उसे थोडी देर पानी के पास बिठाया और फ़िर कैरी का डर थोड़ा कम हुआ ।

beach पर कुछ लोग तो कैरी को देख कर डर जाते तो वहीं जिन्होंने doggi पाले हुए थे वो कैरी को प्यार करने लगते थे।थोडी देर बाद कैरी को भी मजा आने लगा था। और beach से वापिस लौटने मे कैरी राम इतना थक गए थे कि वो बेटे के पैर पर ही सो गए।

Wednesday, April 23, 2008

रंग बिरंगी मछलियाँ (२)

जैसा की हमने अपनी पिछली पोस्ट मे कहा था की हम इन खूबसूरत और प्यारी मछलियों का विडियो लगायेंगे तो लीजिये हाजिर है विडियो

इन मछलियों को भी जैसे हम लोगों की आवाज और खुशबू पता चल जाती थी क्यूंकि जब हम लोग pond के पास जाते थे तो अक्सर ये लोग पानी मे नीचे की तरफ़ रहती थी या pond मे पड़े पौधों मे छिपी रहती थी पर बुलाने पर बाहर जाती थीऔर पूरे समय इधर-उधर तैरती रहती थी pond मे देखने पर लगता था की थोडी बड़ी हो रही हैऔर इन्हे इस तरह तैरता हुआ देखने मे बहुत अच्छा लगता था अगर एक मछली भी कम दिखती तो लगता था की कहीं मछली मर ना गई हो इसलिए अक्सर हम लोग इनकी गिनती करते रहते थे


ये दोनों विडियो जरा बड़े है


video





video